पढ़ें देश भर की ताज़ा ख़बरें
क्या CM योगी को जनता नकार दिया है ?
Friday, 01 Jun 2018 04:57 am
 पढ़ें देश भर की ताज़ा ख़बरें

पढ़ें देश भर की ताज़ा ख़बरें

उत्तर प्रदेश में कैराना और नूरपुर उपचुनाव के गुरुवार को परिणाम आए| दोनों सीटों पर बीजेपी को हार का मुंह देखना पड़ा है| इससे पहले गोरखपुर और फूलपुर में भी पार्टी को मात खानी पड़ी थी| उपचुनाव में बीजेपी को एक के बाद एक मिल रही हार यूपी की योगी सरकार और खासकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए बहुत बड़ा झटका है|

बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव और पिछले साल 2017 के यूपी विधानसभा बीजेपी को जो प्रचंड वोट मिला था अब उसमें सेंध लगनी शुरू हो गई है| जबकि 2017 के चुनाव में बीजेपी ने यूपी में 14 साल के सत्ता के वनवास को खत्म किया था और 325 सीटों के साथ ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी|

बीजेपी के लिए ये करिश्मा पीएम नरेंद्र मोदी के चेहरे की वजह से हुआ था| लेकिन नतीजे आने के बाद पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने सत्ता की कमान योगी आदित्यनाथ को सौंपी|

लखनऊ-गोरखपुर का सफर

योगी आदित्यनाथ सीएम के साथ-साथ गोरखनाथ मठ के महंत भी हैं| पांच बार वे गोरखपुर लोकसभा से सांसद रहे हैं| यही वजह है कि वे अपने आपको गोरखपुर से बाहर नहीं निकाल पा रहे हैं| महीने में दो से तीन दौरा उनका सिर्फ गोरखपुर का हो रहा है| इसके चलते विपक्ष लगातार सवाल उठा रहा है, कि वे हर सप्ताह तो गोरखनाथ मंदिर में पूजा करने जा रहे हैं|

योगी सरकार के एक साल से ज्यादा समय गुजर चुका है, लेकिन बीजेपी को फायदा होने की बजाय लगातार नुकसान उठाना पड़ रहा है|मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री को अपनी संसदीय सीट गंवानी पड़ चुकी है| इसके बाद अब कैराना और नूरपुर में भी बीजेपी पस्त नजर आई| वो भी उस समय जब लोकसभा चुनाव नज़दीक है, ये बीजेपी के लिए खतरे की घंटी है|

योगी आदित्यनाथ कई वर्षों तक खुद को एक कट्टर हिंदुत्ववादी राजनीति चेहरे थे| सीएम बनने के बाद योगी ने नया अवतार लिया, तो उनका नारा था, 'किसी से भेदभाव नहीं और किसी की मनुहार नहीं| लेकिन अब वे अपनी छवि से विपरीत नजर आ रहे हैं, जो बीजेपी के कट्टर समर्थकों को रास नहीं आ रहा है|